कुछ ख्वाब अधूरे बाकी हैं

I don’t like movies
No girl excites me
anymore
I’m a CS engineer
and
I still have to learn
How to print “Hello” word
 In C++

Here I am:

‘आँखों में कहीं नींद नहीं
कुछ ख्वाब अधूरे बाकी हैं
दिल को भी है चैन कहाँ
कई राज अधूरे बाकी हैं

अपनों को उम्मीदें हैं हमसे
उनके अरमान अधूरे बाकी हैं
रोज राजमल ही पार्टी देता हैं
ऐसे कई एहसान अधूरे बाकी हैं

जिंदगी के सवाल नहीं थमते
हमारे जवाब अधूरे बाकी हैं
किसी से हमें कोई गिला नहीं
मगर कुछ हिसाब अधूरे बाकी हैं

अभी तो दोस्ती शुरु हुई है
प्यार के किस्से अधूरे बाकी हैं
जिन्दगी के गुलदान से
कुछ हिस्से अधूरे बाकी हैं

कुछ ख्वाब अधूरे बाकी हैं
कुछ राज अधूरे बाकी हैं
कुछ गीत हमने लिख दिए
पर साज अधूरे बाकी हैं’

Written By –
Gaurav स Kaintura

Follow me on:
Instagram@gauravsk98

YouTube

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s